मुंबई, कला, संस्कृति, साहित्य एवं समाजसेवा के क्षेत्र से राज्यसभा के लिए राष्ट्रपति की ओर से मनोनीत की जाने वाली 12 हस्तियों में से तीन का कार्यकाल अप्रैल में खत्म होने जा रहा है। इत्तेफाक की बात ये है कि ये तीनों हस्तियां मुंबई में ही रहती हैं- व्यवसायी अनु आगा, क्रिकेटर  खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर और फिल्म अभिनेत्री रेखा। अब इनकी सीटों पर जगह पक्की करने के लिए फिल्म इंडस्ट्री और लेखकों के बीच होड़ शुरू हो गई है।

सदन में उपस्थिति का सबसे खराब रिकॉर्ड (साढ़े चार पर्सेंट) बनाकर टीका-टिप्पणी झेल चुकीं रेखा ने छह साल का कार्यकाल पूरा कर लिया है। अब सबकी निगाहें इस बात पर टिकी हैं कि रेखा की सीट पर किस फिल्मी सितारे की लॉटरी खुलेगी।

सूत्रों की मानें तो पार्टी के गलियारों में नामांकन की होड़ में फिलहाल अक्षय कुमार, जूही चावला और गजेंद्र चौहान का नाम आगे चल रहा है। हालांकि सलमान खान के पिता सलीम खान, विवेक ओबेरॉय के पिता सुरेश ओबेरॉय, ऋषि कपूर, जैकी श्रॉफ, वहीदा रहमान, आशा पारेख, मधुर भंडारकर और अनुपम खेर के नामों की भी सिफारिश पार्टी और सरकार के कानों तक पहुंची है।
गजेंद्र चौहान को संघ परिवार का वरदहस्त हासिल है। फिल्म इंस्टिट्यूट पुणे का अध्यक्ष पद संभालने के बाद वह भारी विवादों में रहे लेकिन सरकार उनके पीछे लगातार खड़ी रही। कैग की रिपोर्ट में उनके काम की सराहना और नॉर्थईस्ट में बीजेपी के पक्ष में प्रचार यात्राएं उनके लिए प्लस पॉइंट है। मोबाइल टावरों के रेडिएशन के खिलाफ राष्ट्रव्यापी अभियान छेड़ चुकीं जूही चावला ने ‘गुलाब गैंग’ में पॉलिटिकल लीडर के रूप में दिखाई दी थीं। ठोस गुजरात कनेक्शन वाले अपने पति जय मेहता के समर्थन से जूही क्या अपनी महक राज्यसभा में भी बिखेर पाएंगी, इस पर सबकी नजर है।
महिलाओं के लिए शौचालय निर्माण, प्रधानमंत्री के स्वच्छता अभियान और शहीद जवानों के लिए धनसंग्रह में सक्रियता दिखाकर राष्ट्रवादी होने का बार-बार परिचय दे चुके और रेखा के साथ खिलाड़ी का रोल कर चुके अक्षय कुमार राज्यसभा में प्रवेश पा सकते हैं। अगर कनाडा की उनकी नागरिकता को लेकर कोई परेशानी पेश आई तो उनकी सास डिंपल कापड़िया के नाम पर विचार हो सकता है, जो अल्पसंख्यक समुदाय से हैं और गुजरातीभाषी भी।