मुंबई, कमला मिल अग्नि कांड के बाद बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) पर सवाल के बाद बीएमसी हरकत मैं ऐसी आई कि इस इस बार उसने बॉलीवुड अभिनेता, बीजेपी सांसद और पूर्व मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा पर शिकंजा कसा है। सोमवार को बीएमसी ने शत्रुघ्न सिन्हा के जुहू स्थित आठ मंजिला बंगले “रामायण” के कई अवैध ढांचे को गिराया। खबर तो ये भी है कि ये सब उस समय हुआ जब शत्रुघ्न सिन्हा वक्त घर में ही मौजूद थे।

आपको बता दें कि शत्रुघ्न सिन्हा मुंबई के इस बंगले में अपनी बेटी सोनाक्षी सिन्हा सहित परिवार के साथ रहते हैं। शत्रुघ्न ने बताया कि उनके घर में मामूली गड़बड़ियां थीं और उन्होंने बीएमसी स्टाफ को इसे हटाने के लिए समर्थन दिया। वहीँ बीएमसी अधिकारियों ने बताया कि घर में छत पर एक टॉइलट, एक ऑफिस और एक पूजा घर का निर्माण अवैध स्थान पर हुआ था जिसमें पूजा घर को छोड़कर बाकी अवैध ढांचों को गिरा दिया गया। साथ ही बीएमसी अधिकारियों ने पूजा घर में रखे मंदिर को दूसरे स्थान पर शिफ्ट करने और पूजा कमरे को हटाने के लिए कहा है।

शत्रुघ्न को बीएमसी की तरफ से पहली नोटिस 6 दिसंबर को जारी हुई थी। इसी के साथ नियमों का उल्लंघन करने के मामले में जल्द ही शत्रुघ्न के खिलाफ शिकायत दर्ज की जाएगी। शत्रुघ्न ने कहा, ‘सरकार घर के अंदर टॉइलट निर्माण को बढ़ावा दे रही थी इसलिए हमने छत पर एक शौचालय निर्माण कराया ताकि बिल्डिंग में काम करने वाले लोग उसे इस्तेमाल में ला सके। मुझे बीएमसी द्वारा इसको हटाये जाने से कोई आपत्ति नहीं है। पूजा घर को फिलहाल एक अस्थायी जगह शिफ्ट कर दिया गया है और हम इसके लिए स्थायी ठिकाना ढूंढ रहे हैं। मैं अधिकारियों को उनके काम बिना कोई बाधा डाले समर्थन कर रहा हूं।’ जब उनसे पूछा गया कि क्या यशवंत सिन्हा को समर्थन देने पर उन्हें ये खामियाजा भुगतना पड़ा तो उन्होंने हंसते हुए इसे टाल दिया।

गौरतलब है कि इससे एक दिन पहले ही शत्रुघ्न ने अपनी पार्टी के सहयोगी और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा के बीजेपी के नेतृत्व वाली राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन को समर्थन दिया था। यशवंत सिन्हा अकोला में किसानों के लिए रैली कर रहे थे।