जहाँ एक तरफ मोदी सरकार नोटबंदी की सालगिरह मानाने की ज़ोर शोर से तैयारियां कर रही हैं वहीँ सालगिरह के दो दिन पहले ‘कालाधन’ और ‘भ्रष्टाचार’ को लेकर अहम खुलासा हुआ है। ‘पनामा पेपर्स’ का खुलासा करने वाले जर्मनी के अखबार ‘जीटॉयचे साइटुंग’ ने ये ‘पैराडाइज पेपर्स’ को लेकर हैरान करने वाले खुलासे किए हैं। ‘पैराडाइज पेपर्स’ में फर्जी कंपनियों, फर्मों से जुड़े कुल 1.34 करोड़ दस्तावेज शामिल हैं। जिनमें अमिताभ बच्चन, केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा समेत 714 भारतीयों के नाम सामने आए हैं।

इंटरनेशनल कॉन्सोर्टियम ऑफ इंवेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट्स (ICIJ) ने 96 मीडिया ऑर्गेनाइजेशन के साथ मिलकर ‘पैराडाइज पेपर्स’ नाम के दस्तावेजों की जांच की है। इसमें दुनिया भर में ताकतवर लोगों का पैसा विदेशों में भेजने वाले फर्मों और फर्जी कंपनियों के बारे में बताया गया है।

अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की खबर के मुताबिक, ‘पैराडाइज पेपर्स’ में 180 देशों के नाम हैं। जिसमें भारत 19वें नंबर पर है। इनमें बड़ी-बड़ी विदेशी कंपनियों के भी नाम हैं।

ख़बरों के मुताबिक ‘पैराडाइज पेपर्स’ में सबसे ज्यादा दस्तावेज बरमूडा की लॉ फर्म ‘एप्पलबी’ (Appleby) के हैं। 119 साल की इस कंपनी में वकीलों, अकाउंटेंट्स और बैंकर्स का एक बड़ा नेटवर्क है। ये नेटवर्क दुनियाभर के अमीरों और ताकतवर लोगों का पैसा विदेशों में मैनेज करते हैं। उनके लिए कंपनियां सेट अप करते हैं।

बता दें कि ‘एप्पलबी’ की दूसरी सबसे बड़ी क्लाइंट एक इंडियन कंपनी है, जिसकी दुनियाभर में करीब 118 सहयोगी कंपनियां हैं. इस कंपनी के इंडियन क्लाइंट्स में कुछ बड़े कॉर्पोरेट्स और कंपनियां हैं. ईडी और सीबीआई इनमें से कुछ कंपनियों की छानबीन कर रही है.

इन भारतीयों के नाम शामिल

‘पैराडाइज पेपर्स’ में केंद्रीय विमानन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा, बॉलीवुड के शहंशाह अमिताभ बच्चन, बीजेपी से राज्यसभा सांसद और कारोबारी आरके सिन्हा, संजय दत्त की पत्नी मान्यता दत्त के पुराने नाम दिलनशीं, नीरा राडिया, विजय माल्या, कार्ति चिदंबरम का जिक्र है.

बरमूडा की कंपनी में बिग बी के शेयर्स
रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिग बी के बरमूडा की एक कंपनी में शेयर्स होने का खुलासा हुआ है. वहीं, केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा का नाम ‘ओमिड्यार नेटवर्क’ में साझेदारी को लेकर सामने आया है. राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा की कंपनी ‘एसआईएस सिक्यॉरिटीज’ का नाम भी ‘पैराडाइज पेपर्स’ में है।

रूस के रष्ट्रपति पुतिन के दामाद के भी दस्तावेज
‘पैराडाइज पेपर्स’ में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के दामाद रॉश का नाम भी सामने आया है. रॉश अरबपति इंवेस्टर हैं. नेविगेटर होल्डिंग्स में उनके कुल 31 फीसदी स्टैक्स हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक, रॉश की प्राइवेट इक्विटी फर्म नेविगेटर में सबसे बड़ी शेयरहोल्डर है।डोनाल्ड ट्रंप और एलिजाबेथ-2 का नाम भी शामिल
‘पैराडाइज पेपर्स’ में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप, कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रू़डो के चीफ फंडरेज़र, इंग्लैंड की क्वीन एलिजाबेथ-2 का नाम भी सामने आया है. ट्रंप के आईसीआईजे (ICIJ) ने ‘पैराडाइज पेपर्स’ में ट्रंप के अरबपति कॉमर्स सेक्रेटरी विलबर रॉस और रूस के बीच रिश्ते, कनाडा के पीएम जस्टिन ट्रू़डो के चीफ फंडरेज़ के खुफिया लेनदेन, मेडिकल और कंज्यूमर बेस्ड कंपनियों में क्वीन एलिजाबेथ- 2 के शेयर्स के दस्तावेज रिलीज किए हैं।

सामने आए इन कॉरपोरेट्स हाउस के नाम

जीएमआर ग्रुप, अपोलो टायर्स, हेवेल्स, हिंदूजा समूह, एम्मार एमजीएफ, विडियोकॉन, हीरानंदानी समूह, डीएस कंस्ट्रक्शन, यूनाइटेड स्पिरिट्स लिमिटेड इंडिया और डिएगो के दस्तावेज भी लीक हुए हैं.

बता दें कि ‘पैराडाइज पेपर्स’ कुछ और दस्तावेज अभी रिलीज होने बाकी हैं। माना जा रहा है कि इसमें कई और जाने-माने अमीर और ताकतवर लोगों के नाम आ सकते हैं।