क्रिकेट प्रेमियों और धोनी के फैन्स के लिए एक बेहद अच्छी खबर आयी है। आईपीएल का पहला सीज़न का खिताब अपने नाम करने वाली राजस्थान रॉयल्स और दो बार की चैंपियन चेन्नई सुपरकिंग्स पर लगा हुआ दो सालों का बैन ख़त्म होने के साथ ही ये साफ हो गया है कि 2018 में होने वाले आईपीएल के 11वें सीज़न में इन दोनों टीमों की वापसी होगी। महेंद्न सिंह धोनी के नेतृत्व में दो बार खिताब अपने नाम करने वाली चेन्नई सुपरकिंग्स ने आईपीएल के 11वें सीज़न की अभी से तैयारियां भी शुरू कर दी हैं।

चेन्नई सुपरकिंग्स के निदेशकों में से एक के. जॉर्ज ने बताया कि बैन ख़त्म होने के साथ ही सोशल मीडिया पर कुछ काम भी शुरू कर दिया है। उन्होंने यह भी बताया कि बैन के बावजूद सीएसके के ब्रैंड पर कोई असर नहीं पड़ा। अगर बीसीसीआई खिलाड़ियों को रिटेन करने की अनुमति देती है तो वो पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी को किसी भी हाल में अपनी टीम में बरकरार रखना चाहेंगे।

जॉन ने एक ख़ास बातचीत में कहा कि हमें अगर किसी खिलाड़ी को रिटेन करने का मौका मिलता है, तो हम महेंद्र सिंह धोनी को करेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि उनका पुणे के साथ इस साल अंत में उनका अनुबंध ख़त्म होने के बारे में हमने फिलहाल धोनी से किसी प्रकार की कोई बातचीत नहीं की है। आगे उन्होंने कहा कि हम अपनी आगे की रणनीति बनाएंगे तब उनसे बात करेंगे।

ये भी पढ़ें ; ज़हीर के बॉलिंग कोच बनने से शास्त्री नाख़ुश!

आपको बता दें कि 2013 आईपीएल फिक्सिंग मामले में फंसने के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स को 2015 में दो सालों के लिए बैन कर दिया गया था। इसके बाद इन दोनों टीमों की जगह गुजरात लायंस और राइजिंग पुणे सुपरजाएंट दो अन्य टीमों को शामिल किया गया। 2016 और 2017 के सीज़न में इन दोनों नई फ्रेंचाइज़ियों ने इस टूर्नामेंट में हिस्सा लिया था।

आईपीएल में दो पुरानी टीमों के वापस आने से दर्शकों में भी उत्साह और जोश अधिक देखने को मिलेगा और इसके अलावा कई बदलाव भी देखने को मिलेंगे।